Sunday, December 21, 2014

Share market

१० रू का मुठठी भर chips 

बडे चाव से खाते मेरे lips


११००रू किलो माणिकचंद चलता है
पर १०रू किलो टमाटर खलता है

Weekend पर hotel मे खाना

Multiplex मे movie जाना

१० का popcorn 80 मे वहाँ चलता है

पर कामवाली १० रूextra मांगे खलता है

Whatsapp पर chat इन्टरनेट का पैक

लग गयी घंटो वाट

सौ सौ friends के साथ online याराना चलता है

पर दो मिनट पड़ोसी के साथ हँसना खलता है

यारो संग हो इकठ्ठा

Cricket मे हारा कितना सट्टा

Share market मे लाखो का हेर फेर चलता है


पर भाई को दो इंच जमीन extra जाये खलता है

समझ बड़ी दयनीय और विचार हो गए मतलबी..


कहाँ रह गया वो इन्सानी रिश्ता बस यूँ ही चलता है


माचिस की जरूरत ही नहीं यहाँ पर


भाई सेे भाई जलता है सब कुछ चलता है....








1 comment: